पीनट बटर के फायदे, उपयोग और नुकसान – Peanut Butter Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

पीनट बटर को अपने बेहतरीन स्वाद के लिए जाना जाता है। वैसे तो यह मक्खन ही होता है, लेकिन इसे बनाने की प्रक्रिया आम मक्खन बनाने की प्रक्रिया से बिल्कुल अलग होती है। मूंगफली से बना पीनट बटर खास औषधीय गुणों से समृद्ध होता है, जो शरीर को कई स्वास्थ्य समस्याओं से बचाने का काम कर सकता है। स्टाइलक्रेज के इस लेख में आपको पीनट बटर को कैसे खाएं, पीनट बटर के फायदे और पीनट बटर के नुकसान के बारे में जानकारी मिलेगी, ताकि आप इसके गुणों से परिचित हो सकें। पीनट बटर के फायदे जानने से पहले यह जान लेना आवश्यक है कि पीनट बटर क्या है?

पीनट बटर क्‍या है – What is Peanut Butter in Hindi

पीनट बटर एक प्रकार का मक्खन है, जो मूंगफली से बनता है। इसे मूंगफली का मक्खन भी कहा जाता है। इसे बनाने के लिए सबसे पहले मूंगफली को भूना जाता है, फिर शहद, नमक व पीनट ऑयल के साथ अन्य सामग्रियों को मिलाकर पेस्ट तैयार किया जाता है, जो पीनट बटर के रूप में सामने आता है। इसमें मौजूद पोषक तत्व कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं में आराम पहुंचा सकते हैं। इसके सेवन से कैंसर और डायबिटीज जैसी समस्या में भी आराम मिल सकता है (1)।

आइए, लेख के अगले भाग में जानते हैं कि पीनट बटर खाने के फायदे क्या-क्या हो सकते हैं?

पीनट बटर के फायदे – Benefits of Peanut Butter in Hindi

पीनट बटर के सेवन से होने वाले विभिन्न स्वास्थ्य संबंधी फायदों के बारे में आपको नीचे पूरी जानकारी दी जा रही है।

1. प्रोटीन के रूप में

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए अन्य पोषक तत्वों के साथ प्रोटीन की मात्रा भी जरूरी है। पीनट बटर प्रोटीन के उच्च स्रोतों में से एक है। इसलिए, प्रोटीन की कमी को पूरा करने के लिए पीनट बटर का सेवन किया जा सकता है। 100 ग्राम पीनट में लगभग 25.80 ग्राम प्रोटीन की मात्रा पाई जाती है, जो प्रोटीन की पूर्ति के लिए एक पर्याप्त मात्रा हो सकती है (1) ।

2. कैंसर में

In cancer

iStock

पीनट बटर के फायदे कैंसर को रोकने में भी काम आ सकते हैं, क्योंकि इसमें कैंसर रोधी गुण पाए जाते हैं। दरअसल, पीनट रेस्वेराट्रोल (resveratrol) नामक पोषक तत्व से भरपूर होता है, जो एक कारगर पॉलीफेनोल एंटीऑक्सीडेंट (polyphenol antioxidant) की तरह काम करता है। पीनट का यह गुण कैंसर से लड़ने में लाभकारी परिणाम दे सकता है (1)।

3. डायबिटीज में सहायक

पीनट बटर का सेवन आपको डायबिटीज की समस्या से बचा सकता है। दरअसल, डायबिटीज के लिए पीनट को सुपर फूड की सूची में रखा गया है। पीनट को इस सूची में इसलिए जगह दी गई है, क्योंकि यह मैग्नीशियम व फाइबर जैसे पोषक तत्वों से समृद्ध होता है और ब्लड शुगर को ज्यादा प्रभावित भी नहीं करता है (1)।
इसके अलावा, लो ब्लड शुगर पर काबू पाने के लिए भी पीनट बटर एक प्रभावी विकल्प हो सकता है, हालांकि, इसकी मात्रा के लिए एक बार अपने डॉक्टर से जरूर परामर्श कर लें (2)।

4. आंखों के लिए

आंखों को स्वस्थ बनाए रखने के लिए भी पीनट बटर का उपयोग किया जा सकता है। दरअसल, आंखों के लिए विटामिन ई एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व माना जाता है, जो मैक्यूलर डिजनरेशन (आंखों से जुड़ी बीमारी) जैसी समस्या से बचाव का काम कर सकता है। आंखों के लिए विटामिन ई की पूर्ति के लिए पीनट बटर एक प्रभावी विकल्प हो सकता है (3)।

5. पाचन में सहायक

जितना शरीर के लिए खाना आवश्यक है, उतना ही उसे पचाना भी जरूरी है। भोजन को पचाने में पीनट बटर एक अहम भूमिका निभा सकता है। दरअसल, पीनट बटर को फाइबर का अच्छा स्रोत माना जाता है, जो पाचन क्रिया को सुचारू रूप से चलाने में मदद कर सकता है (4), (5)।

6. ह्रदय स्वास्थ्य के लिए

For heart health

iStock

ह्रदय स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने के लिए भी पीनट बटर का सेवन किया जा सकता है। पीनट में पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड पाया जाता है (4)। एक वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार, पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड शरीर में मौजूद खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम करने की क्षमता रखता है, जिससे ह्रदय रोग के जोखिम से बचा जा सकता है (6)।

7. कोलेस्ट्रॉल

शरीर में बढ़ता कोलेस्ट्रॉल ह्रदय रोग के साथ स्ट्रोक का कारण भी बन सकता है (7)। शरीर में कोलेस्ट्रॉल को संतुलित करने के लिए पीनट बटर का सेवन किया जा सकता है, क्योंकि यह कोलेस्ट्रॉल से मुक्त होता है(4)। एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार, यह खराब कोलेस्ट्रॉल में 14% तक की कमी कर सकता है (1)।

8. पित्ताशय की बीमारी में

In gall bladder disease

iStock

पित्ताशय की बीमारी में भी पीनट बटर के फायदे देखे जा सकते हैं। दरअसल, पीनट यानी मूंगफली में आपको पित्ताशय की बीमारी से बचाने का गुण होता है। एक वैज्ञानिक रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर हफ्ते में पांच बार पीनट या पीनट बटर का सेवन किया जाए, तो यह पित्ताशय की बीमारी के खतरे को कम कर सकता है (1)।

9. ऊर्जा

मानव शरीर के सभी अंग सक्रिय रूप से कार्य करते रहें, इसके लिए जरूरी है कि शरीर को पर्याप्त ऊर्जा भी मिलती रहे। पीनट बटर को ऊर्जा के प्रमुख स्रोत में गिना जा सकता है। पीनट बटर में ऊर्जा की भरपूर मात्रा पाई जाती है और ऊर्जा की पूर्ति के लिए पीनट बटर का सेवन किया जा सकता है (4)।

पीनट बटर के फायदे जानने के बाद आइए अब इसके पोषक तत्वों के बारे में जानते हैं।

पीनट बटर के पौष्टिक तत्व – Peanut Butter Nutritional Value in Hindi

नीचे दी गई तालिका में पीनट बटर के पौष्टिक तत्वों की जानकारी दी जा रही है (4)।

पोषक तत्व मात्रा प्रति 100 ग्राम
जल 1.23g
ऊर्जा 598kcal
प्रोटीन 22.21g
कुल लिपिड (वसा) 51.36g
कार्बोहाइड्रेट 22.31g
फाइबर, कुल डाइटरी 5.0g
शुगर, कुल 10.49g
मिनरल
कैल्शियम 49mg
आयरन 1.74mg
मैग्नीशियम 168mg
फास्फोरस 335mg
पोटैशियम 558mg
सोडियम 17mg
जिंक 2.51mg
विटामिन
विटामिन सी, कुल एस्कॉर्बिक एसिड 0.0mg
थायमिन 0.150mg
रिबोफ्लेविन 0.192mg
नियासिन 13.112mg
विटामिन बी-6 0.441mg
फोलेट, डीएफई 87μg
विटामिन बी-12 0.00μg
विटामिन ए, आरएई 0μg
विटामिन ए, आईयू 0IU
विटामिन ई (अल्फा-टोकोफेरॉल) 9.10mg
विटामिन डी (डी2+डी3) 0.0μg
विटामिन डी 0IU
विटामिन के, (फिलोकिओनोन) 0.3μg
लिपिड
फैटी एसिड, टोटल सैचुरेटेड 10.325g
फैटी एसिड, टोटल मोनोअनसैचुरेटेड 25.941g
फैटी एसिड, टोटल पॉलीअनसैचुरेटेड 12.535g
फैटी एसिड, टोटल ट्रांस 0.075g
कोलेस्ट्रॉल 0mg

आइए अब पीनट बटर के उपयोग के बारे में जानते हैं।

पीनट बटर का उपयोग – How to Use Peanut Butter in Hindi

How to Use Peanut Butter in Hindi

iStock

पीनट बटर को आप निम्न रूप में उपयोग कर सकते हैं (8) :

● एक छोटे चम्मच पीनट बटर को आप ब्रेड के साथ लगाकर चाय के साथ खा सकते हैं।
● एक छोटे चम्मच पीनट बटर को आप टोस्ट पर लगाकर भी खा सकते हैं।
● मफिन्स बनाते समय पीनट बटर का उपयोग किया जा सकता है।
● सूप बनाने में भी एक छोटे चम्मच पीनट बटर का उपयोग किया जा सकता है।
● मुरब्बा बनाने के लिए भी पीनट बटर का उपयोग किया जा सकता है।

कब खाएं :

पीनट बटर को इस्तेमाल करने का कोई तय समय तो नहीं है, लेकिन आमतौर पर इसे सुबह व शाम को नाश्ते के समय इस्तेमाल में लाया जा सकता है।

कितना खाएं :

सुबह और शाम एक-एक चम्मच पीनट बटर का इस्तेमाल किया जा सकता है। दो चम्मच पीनट बटर खाने से ही दिनभर के लिए पोषक तत्वों की पूर्ति हो जाती है।

इसे आप रेसिपी के जरिए भी उपयोग कर सकते हैं (8)।

पीनट बटर कुकीज

सामग्री:

  • ⅔ छोटा कप पीनट बटर
  • ⅔ छोटा कप चीनी
  • 1 अंडा
  • 1 चम्मच वैनिला एक्सट्रेक्ट

बनाने की विधि:

  • ओवन का तापमान 350 डिग्री फारेनहाइट तक गर्म करें।
  • अब एक बर्तन लें और इसमें पीनट बटर, चीनी, अंडा व वैनिला एक्सट्रेक्ट को एक साथ मिलाएं।
  • अब चम्मच के सहारे इसे बेकिंग शीट पर डालें।
  • शीट पर डाले गए पीटन मिश्रण को चम्मच के सहारे कुकीज का आकार दें।
  • अब इसे ओवन में करीब 15 मिनट के लिए रख दें।
  • ध्यान रहे कि पकने के दौरान यह जल न जाए।
  • अब इसको स्नैक्स के रूप में परोसें।

पीनट बटर का उपयोग जानने के बाद लेख के अगले भाग में अब आपको पीनट बटर के नुकसान के बारे में जानकारी दी जा रही है।

पीनट बटर के नुकसान – Side Effects of Peanut Butter in Hindi

Side Effects of Peanut Butter in Hindi

iStock

पीनट बटर को अगर अधिक मात्रा में उपयोग किया जाए, तो इसके नुकसान भी हैं। पीनट बटर के नुकसान को नीचे बताया जा रहा है।

  • पीनट बटर का अत्यधिक सेवन करने से शरीर में पोटैशियम की मात्रा अधिक हो सकती है, जो पेट दर्द और उल्टी की समस्या का मुख्य कारण बन सकता है (4), (9)।
  • जिन्हें मूंगफली से एलर्जी है, उन्हें पीनट बटर के सेवन से एलर्जी हो सकती है (10)। हालांकि, इस पर अभी और शोध की आवश्यकता है।
  • पीनट बटर के सेवन से वजन भी बढ़ सकता है (11)।
  • पीनट बटर में फोलेट की मात्रा अधिक पाई जाती है (4)। पीनट बटर के अधिक सेवन से शरीर में फोलेट की मात्रा बढ़ सकती है और फोलेट की बढ़ी हुई मात्रा कोलन कैंसर की वजह बन सकती है (12)।

पीनट बटर खाने के फायदे और पीनट बटर के नुकसान के बारे में जानकर अब आप इसे बिना किसी शंका के खा सकते हैं। खाते समय ध्यान रखें कि यह फायदा तभी करेगा, जब इसका सेवन सीमित मात्रा में किया जाए। साथ ही अगर आप किसी स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहे हैं, तो इसे अपनी डाइट में शामिल करने से पहले डॉक्टर से जरूर पूछ लें। अगर आप इस संबंध में कुछ और जानकारी चाहते हैं, तो नीचे दिए कमेंट बॉक्स के जरिए हमसे संपर्क कर सकते हैं।

संबंधित आलेख

The post पीनट बटर के फायदे, उपयोग और नुकसान – Peanut Butter Benefits, Uses and Side Effects in Hindi appeared first on STYLECRAZE.

Original source: https://www.stylecraze.com/hindi/peanut-butter-ke-fayde-upyog-aur-nuksan-in-hindi/