खाज (स्कैबीज) के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय – Scabies Causes, Symptoms and Home Remedies in Hindi

हमारे पर्यावरण में कुछ कीटाणु ऐसे हैं, जिनके कारण त्वचा में संक्रमण हो सकता है। मुंहासे, रैशेज, फंगल इंफेक्शन व दाद आदि संक्रमण के ही रूप हैं। ऐसा ही एक संक्रमण है स्कैबीज, जिसे आम भाषा में खाज कहा जाता है। खाज ऐसा संक्रमण है, जो छूने से फैल सकता है (1)। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम स्कैबीज और खाज (स्कैबीज) के लक्षण के बारे में आपको बताने जा रहे हैं। इस लेख के जरिए आप जानेंगे कि खाज दूर करने के घरेलू उपाय क्या हो सकते हैं और उन्हें किस तरह उपयोग किया जा सकता है। स्कैबीज का घरेलू उपचार करके उसके लक्षणों से आराम मिल सकता है। साथ ही इस समस्या को कुछ समय के लिए कम किया जा सकता है। वहीं, अगर किसी की समस्या गंभीर हो, तो उसे साथ में मेडिकल ट्रीटमेंट भी जरूर करना चाहिए।

आइए, सबसे पहले आपको यह बताएं कि खाज (स्कैबीज) क्या होता है।

खाज (स्कैबीज) क्या है? – What is Scabies in Hindi

खाज (स्कैबीज) त्वचा पर होने वाला एक प्रकार का संक्रमण है, जो सूक्ष्म कीटाणु सरकोप्टस स्कैबी (Sarcoptes scabiei) की वजह से होता है। इस संक्रमण में मादा सरकोप्टस स्कैबी व्यक्ति की त्वचा पर रहती है और वहीं अंडे देती है, जिससे संक्रमण होता है। स्कैबीज आम तरह का संक्रमण है, जो किसी को भी आसानी से प्रभावित कर सकता है। यह ऐसा संक्रमण है, जो छूने से फैलता है और संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से अन्य किसी को भी हो सकता है (1)।

लेख के अगले भाग में जानिए कि स्कैबीज होने के पीछे अन्य मुख्य कारण क्या हैं।

खाज (स्कैबीज) के कारण – Causes of Scabies in Hindi

स्कैबीज होने का सबसे बड़ा कारण होता है सरकोप्टस स्कैबी (Sarcoptes scabiei) के संपर्क में आना। इसके अलावा, यह समस्या अन्य कारणों से भी हो सकती है, जैसे (1):

  • यह कीटाणु भीड़ भाड़ वाली जगह में आसानी से फैल सकता है, जैसे : अस्पताल व नर्सिंग होम आदि।
  • संक्रमित व्यक्ति के साथ किसी भी प्रकार के शारीरिक संपर्क बनाने से।
  • संक्रमित व्यक्ति के कपड़े, तौलिये या बिस्तर का उपयोग करने से।

आइए, अब आपको बता दें कि खाज (स्कैबीज) के लक्षण क्या होते हैं।

खाज (स्कैबीज) के लक्षण – Symptoms of Scabies in Hindi

अगर किसी व्यक्ति को यह संक्रमण पहली बार हुआ है, तो खाज (स्कैबीज) के लक्षण लगभग दो से छह हफ्तों में दिखना शुरू होते हैं। वहीं, अगर किसी को यह संक्रमण पहले भी हो चुका है, तो इसके लक्षण चार दिन के भीतर साफ दिखने लगते हैं। ध्यान रहे कि खाज (स्कैबीज) के लक्षण दिखना शुरू होने से पहले भी यह संक्रमण फैल सकता है।

खाज (स्कैबीज) के लक्षण में त्वचा पर खुजली और रैशेज, खासकर रात को होना, सबसे आम है। यह खुजली और रैशेज कुछ अंगों को अधिक प्रभावित करते हैं, जैसे (2):

  • उंगलियों के बीच में
  • कलाई पर
  • कोहनी
  • अंडर आर्म्स (armpit)
  • निप्पल
  • पुरुषों के गुप्तांग
  • कमर
  • कूल्हे
  • कंधे की हड्डी

खाज (स्कैबीज) के लक्षण जानने के बाद, लेख के अगले भाग में जानिए स्कैबीज दूर करने के घरेलू उपाय के बारे में।

खाज (स्कैबीज) के लिए घरेलू उपाय – Home Remedies for Scabies in Hindi

1. टी ट्री ऑयल

सामग्री :

  • दो बड़े चम्मच नारियल/जोजोबा ऑयल
  • तीन से पांच बूंद टी ट्री ऑयल
  • स्प्रे बोतल

विधि :

  • एक स्प्रे बोतल में दो बड़े चम्मच नारियल या जोजोबा ऑयल लें।
  • अब इस बोतल में तीन से पांच बूंद टी ट्री ऑयल डालें और दोनों तेलों को अच्छी से तरह मिला लें।
  • तेल के इस घोल को दिन में दो बार प्रभावित जगह पर लगाएं।

कैसे काम करता है :

द अमेरिकन जर्नल ऑफ ट्रॉपिकल मेडिसिन एंड हाइजीन के एक शोध के अनुसार, टी ट्री ऑयल में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो स्कैबीज के कीटाणु को बढ़ने से और खाज को फैलने से रोकते हैं। साथ ही टी ट्री ऑयल में वूंड हीलिंग गुण भी होते हैं, जो घाव को जल्दी भरने में मदद करते हैं। इसके एंटीइन्फ्लेमेटरी गुण सूजन को कम करते हैं और एंटीप्रायटिक गुण खुजली को कम करने में लाभदायक साबित हो सकते हैं (3)। इसमें मौजूद इन गुणों के कारण टी ट्री ऑयल का उपयोग स्कैबीज का घरेलू उपचार करने के लिए किया जा सकता है।

2. नीम

सामग्री :

  • नीम का तेल (आवश्यकतानुसार)
  • एक बड़ा चम्मच नारियल का तेल
  • रूई

विधि :

  • एक बाउल में दोनों तेलों को अच्छी तरह से मिला लें।
  • अब संक्रमित अंग को साफ पानी से धोकर साफ कर लें।
  • फिर रूई की मदद से इस घोल को संक्रमित अंग पर लगाएं और लगभग 30 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • ध्यान रखें कि इस दौरान आप घर से बाहर न निकलें, वरना प्रभावित जगह पर धूल-मिट्टी या गंदगी चिपक सकती है।
  • आप चाहें को नहाने के लिए नीम का आयुर्वेदिक साबुन, शैम्पू या नीम से बने अन्य आयुर्वेदिक उत्पादों का उपयोग भी कर सकते हैं।

कैसे काम करता है :

खाज के संबंध में नीम किस प्रकार असरदार है, इस संबंध में एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की वेबसाइट पर कई रिसर्च पेपर प्रकाशित हुए हैं। इनमें से एक रिसर्च के अुसार, नीम में एसारिसाइडल (acaricidal) गुण होते हैं, जो स्कैबीज फैलाने वाले जीवाणु को मार कर स्कैबीज दूर करने का घरेलू उपाय के रूप में काम कर सकते हैं (4)। एक अन्य शोध में यह भी पाया गया है कि खाज (स्कैबीज) के लक्षणों से पीड़ित डॉग पर नीम का शैम्पू उपयोग करने से बहुत हद तक आराम मिला, लेकिन इंसानों पर अभी इस तरह का शोध किए जाने की जरूरत है (5)।

3. एलोवेरा

सामग्री :

  • एलोवेरा जेल (आवश्यकतानुसार)

विधि :

  • संक्रमित अंग को साफ पानी से धोकर उसे सुखा लें।
  • अब हाथों में थोड़ा-सा एलोवेरा जेल लेकर संक्रमित क्षेत्र पर लगाएं।
  • स्कैबीज का घरेलू इलाज करने के लिए इस प्रक्रिया को दिन में दो बार दोहरा सकते हैं।

कैसे काम करता है :

स्कैबीज दूर करने के घरेलू उपाय के लिए एलोवेरा का उपयोग किया जा सकता है। नाइजीरिया के ओबाफेमी अवलोविओ विश्वविद्यालय में किए गए एक शोध में पाया गया कि एलोवेरा जेल स्कैबीज के लिए मेडिकल ट्रीटमेंट (बेंजोएट लोशन) की तरह कम कर सकता है (6)। एलोवेरा जेल में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, जो संक्रमण से जल्द राहत पाने में मदद कर सकते हैं। साथ ही एलोवेरा जेल में एंटीइंफ्लेमेटरी और वूंड हीलिंग गुण होते हैं, जो सूजन को कम करने और घाव को जल्दी भरने में मदद कर सकते हैं (7)।

4. लाल मिर्च

सामग्री :

  • एक छोटा चम्मच लाल मिर्च
  • तीन चम्मच सरसों का तेल

विधि :

  • एक बाउल में दोनों सामग्रियों को अच्छी तरह से मिलाकर गर्म कर लें।
  • जब तेल अच्छी तरह से गर्म हो जाए, तो इसे छान लें।
  • अब संक्रमित जगह को साफ पानी से धो लें और तौलिए से थपथपा कर पोंछ लें।
  • फिर संक्रमित अंग पर यह तेल लगाएं।
  • यह प्रक्रिया दिन में दो बार दोहराना खाज दूर करने का घरेलू उपाय हो सकता है।

कैसे काम करता है :

लाल मिर्च से स्कैबीज का घरेलू उपचार किया जा सकता है। इसके लिए लाल मिर्च में मौजूद कैप्साइसिन फायदेमंद होता है (8)। कैप्साइसिन के गुण शरीर में दर्द कम करने में मदद कर सकते हैं (9)। साथ ही कैप्साइसिन में एंटीमाइक्रोबियल गुण भी पाए जाते हैं, जो कुछ प्रकार के कीटाणुओं को खत्म करने में मदद कर सकते हैं (10) हालांकि, इस बारे में कोई शोध उपलब्ध नहीं है कि यह स्कैबीज दूर करने के घरेलू उपाय के रूप में कितना प्रभावी साबित होगा। ऐसा इसलिए, क्योंकि कुछ मामलों में त्वचा पर लाल मिर्च लगाने से लोगों को जलन और खुजली का एहसास हुआ है (11)। इसलिए, इसका उपयोग करने से पहले एक बार डॉक्टर से परामर्श अवश्य करें।

5. लौंग का तेल

सामग्री :

  • लौंग का तेल (आवश्यकतानुसार)
  • रूई

विधि :

  • थोड़ी-सी रूई की मदद से लौंग का तेल संक्रमित जगह पर लगाएं।
  • इस प्रयोग को दिन में दो से तीन बार दोहरा सकते हैं।

कैसे काम करता है :

लौंग के तेल को खाज दूर करने के घरेलू उपाय के रूप में उपयोग किया जा सकता है। लौंग के तेल में यूजेनॉल नामक खास तत्व पाया जाता है, जो स्कैबीज फैलाने वाले सरकोप्टस स्कैबी को मारने में प्रभावशाली साबित हो सकता है। इस कीटाणु को मारकर यह खाज को बढ़ने से रोक सकता है और खत्म करने में मदद कर सकता है (12)। साथ ही लौंगे के तेल में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण भी होते हैं, जो सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं (13)।

6. नारियल का तेल

सामग्री :

  • नारियल का तेल (आवश्यकतानुसार)
  • रूई

विधि :

  • थोड़ी-सी रूई की मदद से नारियल का तेल संक्रमित जगह पर लगाएं।
  • इस प्रयोग को दिन में दो से तीन बार दोहरा सकते हैं।

कैसे काम करता है :

खाज दूर करने का घरेलू उपाय करने के लिए नारियल के तेल का उपयोग किया जा सकता है। नारियल के तेल में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो कई प्रकार के बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद कर सकते हैं। साथ ही इसमें एंटीइंफ्लेमेटरी और वूंड हीलिंग गुण भी होते हैं, जो सूजन को कम करने और घाव को जल्दी भरने में मदद कर सकते हैं (14)। फिलहाल, शोध की कमी की वजह से यह कह पाना मुश्किल है कि नारियल तेल स्कैबीज के जीवाणु को मारने में कितना प्रभावशाली साबित हो सकता है।

नोट : स्कैबीज दूर करने के घरेलू उपाय कोई मेडिकल ट्रीटमेंट नहीं है। ये नुस्खे खाज (स्कैबीज) के लक्षण से कुछ हद तक राहत पाने में तो मदद कर सकते हैं, लेकिन उसे जड़ से खत्म नहीं कर सकते।

आर्टिकल में आगे हम बता रहे हैं कि स्कैबीज के इलाज के लिए डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए।

खाज (स्केबीज) होने पर डॉक्टर को कब दिखाएं? – When to see a doctor in hindi

खाज (स्कैबीज) के लक्षण जैसे खुजली या रैशेज आदि नजर आने पर देरी नहीं करनी चाहिए। जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क कर इलाज करवाना चाहिए (15)।

आइए, लेख के आखिरी भाग में स्कैबीज से बचने के कुछ तरीकों के बारे में जान लेते हैं।

खाज (स्कैबीज) से बचाव  – Prevention Tips for Scabies in Hindi

स्कैबीज का घरेलू इलाज करने के अलावा, नीचे बताए गई बातों को ध्यान में रखकर स्कैबीज से बचा जा सकता है (16)।

  • संक्रमित व्यक्ति की त्वचा से सीधे संपर्क में आने से बचें।
  • संक्रमित व्यक्ति की वस्तुएं जैसे कपड़े या बिस्तर के संपर्क में आने से बचें।
  • अगर घर में एक से ज्यादा व्यक्ति संक्रमित हैं, तो दोनों का इलाज एक साथ करवाया जाए, ताकि संक्रमण और न फैले।
  • संक्रमित व्यक्ति के कपड़ों को वाशिंग मशीन में गर्म पानी में धोएं।
  • संक्रमित व्यक्ति द्वारा उपयोग किए गए कमरे को वैक्यूम क्लीनर की मदद से अच्छी तरह साफ करें।

अब आप अच्छी तरह समझ गए होंगे कि खाज क्या है और खाज (स्कैबीज) के लक्षण क्या हैं। साथ ही लेख के माध्यम से आप स्कैबीज दूर करने के घरेलू उपाय के बारे में भी अच्छी तरह समझ गए होंगे। ध्यान रखिए कि लेख में स्कैबीज का घरेलू उपचार करने के लिए बताए गए नुस्खे सिर्फ संक्रमण के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं। अतः हम यही सलाह देंगे कि इसका सही ढंग से इलाज करने के लिए डॉक्टर से परामर्श भी जरूर करें और आवश्यक मेडिकल ट्रीटमेंट करवाएं। सही मेडिकल ट्रीटमेंट और घरेलू नुस्खों के उपयोग से स्कैबीज से छुटकारा पाया जा सकता है। लेख से जुड़े किसी भी सवाल या सुझाव के लिए आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स के जरिए हमें संपर्क कर सकते हैं।

संबंधित आलेख

The post खाज (स्कैबीज) के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय – Scabies Causes, Symptoms and Home Remedies in Hindi appeared first on STYLECRAZE.

Original source: https://www.stylecraze.com/hindi/khaj-ke-karan-lakshan-aur-gharelu-upay-in-hindi/